December 2, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

बच्चों में ये 5 लक्षण दिखते तुरंत जाएं डॉक्टर के पास

कोरोना वायरस महामारी का खतरा अभी टला नहीं है। यूरोप और एशिया के कई देशों में कोरोना की चौथी लहर पहले ही दस्तक दे चुकी है। अब कोरोना की चिंगारी भारत भी पहुंच गई है। देश में पिछले एक हफ्ते से नए मामलों की संख्या बढ़ना फिर से शुरू हो गया है। इस बार कोरोना ज्यादातर बच्चों को अपना शिकार बना रहा है।

कोरोना की तीसरी लहर के बाद स्कूलों के फिर से खुलने के बाद कई बच्चों और अध्यापकों में कोरोना के लक्षण देखने को मिले हैं। इससे परिजनों में चिंता पैदा हो गई है। एक डराने वाली रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश के गौतम बौद्ध नगर में 107 नए कोविड-19 मामलों में से 30% से अधिक बच्चों में दर्ज किए गए हैं। सिर्फ यूपी ही नहीं, बल्कि दिल्ली और आसपास के शहरों में बच्चों में कोरोना के मामले पाए जा रहे हैं।

हालांकि, विशेषज्ञों ने सुझाव दिया है कि घबराने की जरूरत नहीं है लेकिन सतर्क रहना बेहद जरूरी है। इस बार कोरोना का एक्सई वेरिएंट ज्यादा परेशान कर रहा है क्योंकि इसमें पिछले सभी वेरिएंट से यदा तेजी से फैलने की क्षमता है। विशेषज्ञों का सुझाव है कि इसके लक्षण हल्के हैं और उन पर ध्यान रखना जरूरी है।
चिंता की बात यह है कि कोरोना के अब तक मिले वेरिएंट्स की तुलना में एक्सई वेरिएंट ज्यादा तेजी से फैलने वाला है। अब ओमीक्रोन बीए.1 और बीए.2 को सबसे ज्यादा तेजी से प्रसारित होने वाला वेरिएंट माना जाता था। चूंकि बच्चों का एक बड़ा वर्ग अभी भी असंक्रमित है, तो ऐसे में उन्हें इस वायरस की चपेट में आने का खतरा हो सकता है।
एक मीडिया हाउस को बताया है कि बच्चों में लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं और इसमें ऊपरी श्वसन पथ के लक्षण शामिल होते हैं जैसे बुखार, नाक बहना, गले में दर्द, शरीर में दर्द और सूखी खांसी।