December 1, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

रूस- यूक्रेन जंग के बीच भारत के न्‍यूट्रल रुख पर आया अमेरिका का बड़ा बयान, जानें क्या कुछ कहा

रूस-यूक्रेन जंग का आज 27वां दिन है. पिछले 26 दिनों से रूस लगातार यूक्रेन के कई बड़े शहरों पर बमबारी और मिसाइल हमले कर रहा है. इन हमलों में अबतक हजारों यूक्रेनी नागरिक मारे जा चुके हैं और यूक्रेन के ज्यादातर शहर पूरी तरह तबाह हो चुके हैं. लोग अपनी जान बचाते हुए पड़ासी देशों में पलायन कर रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ रूस के हमले पर अमेरिका काफी आक्रामक रुख अपना रहा है और लगातार तीखे बयान दे रहा है. पिछले दिनों अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने व्लादिमीर पुतिन को ‘वॉर क्रिमिनल’ कहा था. अमेरिका ने रूस पर काफी प्रतिबंध भी लगाए हैं.

वहीं इस पूरे संकट के दौरान भारत न्‍यूट्रल रहा है. हालांकि यह जाहिर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) इस युद्धग्रस्त देश (यूक्रेन) में संघर्ष को खत्म करने की अपील करने के लिए अपने संपर्कों का उपयोग कर रहे हैं.

भारत हमारा एक्सेपश्नल पार्टनर है

वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति ने कल अमेरिका और भारत के व्यापारिक रिश्ते को लेकर भी टिप्पणी की. बाइडेन ने भारत को अमेरिका के प्रमुख सहयोगियों में अपवाद बताया. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन का कहना चाहते थे कि भारत, अमेरिका के प्रमुख सहयोगियों में अपवाद है. यूक्रेन पर रूस के आक्रमण को दंडित करने वाले पश्चिमी प्रतिबंधों पर “कुछ हद तक अस्थिर” रहा है. बाइडन ने कहा कि क्वाड सहयोगियों में संभावित अपवाद के साथ कि भारत इसमें से कुछ पर अस्थिर है, लेकिन जापान बेहद मजबूत रहा है, पुतिन की आक्रामकता से निपटने के मामले में ऑस्ट्रेलिया का भी यही हाल है. “
वहीं रूस-यूक्रेन संघर्ष पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि रूसी राष्ट्रपति पुतिन की पीठ दीवार के खिलाफ है, वह जैविक हथियारों जैसे नए झूठे झंडों की बात कर रहे हैं. उन्होंने कहा यह स्पष्ट संकेत है कि पुतिन जैविक, रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर विचार कर रहे हैं.

बाइडन ने अमेरिकी कंपनियों को रूसी साइबर हमले की चेतावनी दी

राष्ट्रपति जो बाइडन ने अमेरिकी कंपनियों को चेतावनी दी है कि रूस कभी भी उनपर साइबर हमले कर सकता है. उन्होंने एक बयान में कहा कि अगर कंपनियों ने पहले से साइबर हमले से बचने क लिए पुख्ता इंतजाम नहीं किए हैं, तो मैं अपने निजी क्षेत्र के भागीदारों से अपने साइबर सुरक्षा को तुरंत सख्त करने का आग्रह करता हूं.