July 3, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

गलती से चल गया ब्रह्मोस: सदमे में है पाकिस्तान

पाकिस्‍तान में पिछले दो दिन से खौफ की वजह बनी मिसाइल का भेद खुल गया है। भारत ने शुक्रवार को कहा कि गलती से मिसाइल फायर हो गई थी। एक बयान में रक्षा मंत्रालय ने कहा, ‘यह पता चला है कि मिसाइल पाकिस्‍तान के एक इलाके में गिरी। घटना पर बेहद खेद है मगर यह काफी राहत की बात है कि हादसे में किसी की जान नहीं गई।’ पाकिस्‍तान का दावा है कि मिसाइल करीब 40,000 फीट की ऊंचाई पर आवाज से तीन गुना ज्‍यादा रफ्तार से उड़ते हुए उनके एयरस्‍पेस में 100 किलोमीटर से ज्‍यादा भीतर तक घुस आई। गनीमत रही कि मिसाइल पर कोई वॉरहेड नहीं लगा था। घटना बेहद गंभीर है इसलिए एक हाई लेवल कोर्ट ऑफ इंक्‍वायरी के आदेश दे दिए गए हैं। न्‍यूक्लियर पावर वाले दो पड़ोसी देशों के बीच ऐसी कोई घटना युद्ध की वजह बन सकती थी।

कौन सी मिसाइल गलती से छोड़ी गई, इसका खुलासा रक्षा मंत्रालय ने नहीं किया। हालांकि सूत्रों ने कहा कि यह BrahMos लैंड-अटैक सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल थी जो परंपरागत (गैर-परमाणु) हथियार है। यह मिसाइल Mach 2.8 यानी आवाज से करीब तीन गुना रफ्तार से फायर होती है। सूत्रों के मुताबिक, मिसाइल उत्‍तरी भारत में वायुसेना के एक बेस से लॉन्‍च की गई। कोर्ट ऑफ इंक्‍वायरी मे इस बात की जांच होगी कि इतने सारे सेफगार्ड्स के बावजूद गलती से मिसाइल फायर कैसे हो सकती है।

पाकिस्‍तान ने शुक्रवार को इस्‍लामाबाद में भारतीय दूत को तलब कर कड़ा विरोध जताया। पाकितान के अनुसार, उसके एयरस्‍पेस के ‘उल्‍लंघन’ की जांच होनी चाहिए। अचानक सुपरसोनिक मिसाइल लैंड होने से पाकिस्‍तानी खौफ में आ गए। वहां की सरकार ने कहा कि ऐसे हादसे से यात्री विमानों और नागरिकों की जान को खतरा हो सकता था। भारत को चेतावनी देते हुए पाकिस्‍तान ने कहा कि वह ऐसी लापरवाही के नतीजों को ध्‍यान में रखे और ऐसे कदम उठाए जिससे भविष्‍य में ऐसे उल्‍लंघन दोबारा न हो।
पाकिस्‍तान इस घटना से बेहद नाराज था। भारत के दूत से बताया गया कि मिसाइल हरियाणा के सिरसा से लॉन्‍च की गई और यह सूरतगढ़ के रास्‍ते पाकिस्‍तान में शाम करीब 6.43 बजे दाखिल हुई। लगभग 6.50 बजे मिसाइल मिया चुन्‍नू शहर के पास गिर गई। पाकिस्‍तान ने कहा कि मिसाइल का रास्‍ता ऐसा था कि कई घरेलू और अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों को खतरा हो सकता था।