December 2, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

अगर मुझे टीम चुननी होती तो विराट कोहली मेरी T20 टीम में नहीं होते, जानिए जडेजा ने क्यों कहा ऐसा

भारत के पूर्व बल्लेबाज अजय जडेजा ने शनिवार को कहा कि वह अपनी टी20 टीम में विराट कोहली को जगह नहीं देंगे। जडेजा ने कहा है कि भारत को यह तय करना होगा कि क्या पूर्व कप्तान विराट कोहली टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने के टीम के आक्रामक रवैए के खाके में फिट बैठते हैं या नहीं? अजय जडेजा ने कहा कि जब T20I शैली की बात आती है तो कप्तान और टीम प्रबंधन के पास दो स्पष्ट विकल्प होते हैं और जब बात विराट कोहली के भविष्य की आती है तो यह मुश्किल फैसला होता है।

अजेय जडेजा का यह कमेंट इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे T20I मैच के दौरान आया, जिसे भारत ने 49 रन से जीता। भारत ने दीपक हुड्डा को ड्रॉप करते हुए विराट कोहली को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया। उनके अलावा बर्मिंघम में मुकाबले के लिए ऋषभ पंत, जसप्रीत बुमराह और रविंद्र जडेजा ने भी प्लेइंग इलेवन में जगह पाई। पिछले दोनों मैचों में ये देखा गया है कि भारतीय क्रिकेट टीम बीच के ओवरों में ज्यादा से ज्यादा रन बनाना चाहती है, क्योंकि पावरप्ले और आखिरी के ओवरों में तो रन बनते ही हैं।

भारत के लिए रोहित शर्मा और ऋषभ पंत ने ओपनिंग की, लेकिन नंबर तीन पर आए विराट कोहली एक रन बनाकर आुट हो गए। इसको लेकर अजय जडेजा ने सोनी स्पोर्ट्स पर कहा, “आपको दिखाया गया है कि उसी खेल को खेलने का एक और तरीका है। आप अभी भी 180 से 200 के आसपास स्कोर कर रहे हैं। ऐसा नहीं है कि खेल बदल गया है, लेकिन आपके पास एक विकल्प है कि आप कैसे खेलना चाहते हैं। मुझे लगता है कि रोहित शर्मा वह फैसला ले रहे होंगे।” उन्होंने आगे कहा, “मुझे लगता है कि जो कोई भी टीम का नेतृत्व कर रहा है उसके पास केवल दो विकल्प हैं। मैं इसे वैसे ही देखता हूं। या तो आप जिस तरह से खेल रहे हैं उसी पर टिके रहें, युवाओं को अवसर दें या फिर आप अपनी पुरानी टीम में वापस चले जाएं, जो नए खिलाड़ियों को मौका देने से पहले आपकी टीम थी।” दीपक हुड्डा ने पिछले तीन मैचों में एक शतक और एक अर्धशतक के साथ एक मैच विनिंग पारी खेली। बावजूद इसके उन्हें ड्रॉप किया गया।

जडेजा ने विराट कोहली को स्पेशल प्लेयर बताते हुए कहा, “विराट कोहली एक खास खिलाड़ी हैं। अगर विराट कोहली नहीं होते तो शायद वह टेस्ट क्रिकेट भी नहीं खेलते। आप नंबरों को देखें और कहें ‘ओह, पिछले 8, 10 मैचों में, उन्होंने शतक नहीं बनाया है’, लेकिन आप उन्हें सिर्फ इसलिए नहीं छोड़ते, क्योंकि उसने शतक नहीं बनाया है। अतीत में उसने जो किया है, उसके कारण आप उसे बाहर नहीं रख सकते।”