December 2, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

दंगा करने वाले हो जाएं सावधान, अग्निवीर बनने का सपना रहेगा अधूरा, सेना ने रख दी है ये शर्त

अग्निपथ स्‍कीम (Agnipath Scheme) के विरोध में जारी प्रदर्शनों के बीच सेना ने साफ कर दिया है कि उसे दंगाइयों और अनुशासनहीनों की कोई जरूरत नहीं है। उसने दो-टूक कह दिया है कि ऐसे अभ्‍यर्थियों की भर्ती नहीं होगी जिन्होंने किसी प्रदर्शन में हिस्‍सा लिया है या जिन पर कोई केस दर्ज है। इस संबंध में अभ्‍यर्थियों को एफिडेविट देना होगा। इसके अलावा उनका पुल‍िस वेरिफ‍िकेशन भी होगा। इसमें अगर पाया गया क‍ि उनके ख‍िलाफ मुकदमा दर्ज है तो वो सेना से नहीं जुड़ सकेंगे।रविवार को ‘अग्निपथ’ योजना को लेकर तीनों सेनाओं की ओर से जॉइंट प्रेस कॉन्‍फ्रेंस बुलाई गई। इसमें लेफ्ट‍िनेंट जनरल अनिल पुरी ने स्‍कीम के संदर्भ में कई बातें कहीं। उन्‍होंने बताया कि भर्ती में शामिल होने वाले हर अभ्‍यर्थी को एक एफिडेविट देना होगा। इसमें उन्‍हें घोषणा करनी होगी कि उन्‍होंने किसी प्रदर्शन में हिस्‍सा नहीं लिया। साथ ही उन पर कोई केस दर्ज नहीं है। इसे लेकर भर्ती प्रक्रिया में कड़े प्रावधान कर दिए गए हैं। अभ्‍यर्थी को एनरोलमेंट फॉर्म में ही इसकी जानकारी देनी होगी।
सैन्य मामलों के विभाग में अतिरिक्त सचिव लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने यह भी कहा कि इसके अलावा पुलिस वेरिफिकेशन भी कराया जाएगा। अगर पाया गया कि अभ्‍यर्थी के खिलाफ मुकदमा दर्ज है तो वो सेना से नहीं जुड़ सकेंगे। सेना में अनुशासनहीनता के लिए कोई जगह नहीं है। उन्‍होंने बताया कि ‘अग्निपथ’ स्‍कीम के खिलाफ युवाओं को भड़काया गया। इसके लिए उन्‍होंने कोचिंग संचालकों को जिम्‍मेदार ठहराया। ले. जनरल अनिल पुरी ने यह भी साफ कर दिया कि ‘अग्निपथ’ स्‍कीम किसी भी हाल में वापस नहीं होगी।पुरी ने युवाओं से बोला कि जो भी इधर-उधर घूम रहे हैं। भटक रहे हैं। वो अपना समय बर्बाद नहीं करें। कारण है कि किसी के लिए भी फिजिकल टेस्ट पास करना उतना आसान नहीं होता है। पुरी ने सभी युवाओं से गुजारिश कि वो अपना पूरा ध्यान अगले महीनों में होने वाले टेस्ट पर लगाएं।

क्‍या सरकार ने ये कदम प्रदर्शनों के दबाव में उठाए? इसका भी जवाब पुरी ने दिया। ले. जनरल पुरी ने कहा कि अग्निवीरों को लेकर अलग-अलग मंत्रालयों और विभागों के ऐलान पहले से तय थे। ये कदम अग्निपथ स्‍कीम की घोषणा के बाद हुए हिंसक विरोध-प्रदर्शन के जवाब में नहीं उठाए गए। साथ ही उन्‍होंने यह भी कहा कि आज जवानों को जो पे-अलाउंस मिल रहे हैं, अग्निवीरों को उससे कहीं ज्‍यादा मिलेंगे।