July 3, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

क्या कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें दलाल-स्ट्रीट में पैदा कर रही हैं भय का माहौल?

आज शेयर बाजार में कारोबार की सपाट शुरुआत हुई थी. सेंसेक्स और निफ्टी ने मंगलवार को अपने नुकसान को बढ़ा दिया है. कच्चे तेल की कीमतें 14 साल के उच्च स्तर पर पहुंच गई है. इससे मुद्रास्फीति का खतरा और बढ़ता जा रहा है. आर्थिक विकास की धीमा रफ्तार से भी इन आशंकाओं को बल मिल रहा है.

ब्लू-चिप एनएसई निफ्टी 50 इंडेक्स एनएसईआई 0.83 फीसदी या 131.95 अंक नीचे 15,731.20 पर और एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स 0.72 फीसदी या 380.52 अंक गिरकर 52,462.23 पर कारोबार करता हुआ देखा गया. अगर सेंसेक्स गिरकर बंद होता है तो सूचकांक लगातार पांचवें दिन गिरावट के साथ निपटेगा.

उत्तर प्रदेश का एग्जिट पोल
रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, आज कारोबार के शुरुआत में दोनों सूचकांक कुछ समय के लिए सकारात्मक हो गए, क्योंकि एक्जिट पोल के नतीजों के बाद यह संभावना जताई गई कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में अपनी सत्ता पर काबिज बनी रह सकती है. लेकिन रूस-यूक्रेन संकट से आर्थिक मंदी की चिंता बढ़ा दी.
रॉयटर्स की रिपोर्ट में मेहता इक्विटीज के शोध के उपाध्यक्ष प्रशांत तापसे ने कहा, “एग्जिट पोल ने बीजेपी को समर्थन देने वाले संकेत दिए हैं, जिससे बाजारों में कुछ सकारात्मक भावना फैल रही है.”

अंतरराष्ट्रीय तेल की कीमतें
2008 के बाद से तेल की कीमतें पहले से ही अपने उच्चतम स्तर पर पहुंचने के साथ, मास्को ने रूसी तेल आयात पर पश्चिमी प्रतिबंध की चेतावनी दी कि कीमत दोगुनी से अधिक $ 300 प्रति बैरल हो सकती है.

भारत कच्चे तेल का दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा आयातक है, और बढ़ती कीमतें देश के व्यापार और चालू खाता घाटे को बढ़ाती हैं, जबकि इसकी मुद्रा को नुकसान पहुंचाती है और मुद्रास्फीति को बढ़ावा देती है.

रूस-यूक्रेन
अनिश्चित भू-राजनीतिक स्थिति का हवाला देते हुए एचडीएफसी बैंक ने वित्तीय वर्ष 2023 के लिए भारत के लिए अपने आर्थिक विकास के अनुमान को 8.2% से घटाकर 7.5-7.7 प्रतिशत कर दिया.

हालांकि, तापसे ने कहा कि भू-राजनीतिक तनाव, कच्चे तेल और कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी और मुद्रास्फीति पर चिंता वर्तमान में बाजारों पर असर डालने वाले प्रमुख कारक थे.

बेलारूस में वार्ता में रक्तपात को कम करने के लिए रूस और यूक्रेन द्वारा तीसरे प्रयास के बाद, एक यूक्रेनी वार्ताकार ने कहा कि हालांकि नागरिकों की निकासी के लिए रसद पर सहमति पर छोटी प्रगति हुई थी, चीजें काफी हद तक अपरिवर्तित रहीं.

फोकस में स्टॉक
निफ्टी के बैंक इंडेक्स, फाइनेंशियल सर्विसेज इंडेक्स, प्राइवेट सेक्टर बैंक इंडेक्स और ऑटो इंडेक्स में 1-1 फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई. लाभ पाने वालों में निफ्टी का आईटी इंडेक्स और एनर्जी इंडेक्स क्रमश: करीब 2 फीसदी और 0.3 फीसदी चढ़ा.