September 23, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

कांग्रेस को महंगी पड़ी क्रॉस वोटिंग और एक वोट का रद्द होना, जानिए राज्यसभा चुनाव में अजय माकन की हार का कारण

हरियाणा में कांग्रेस (Congress) को बड़ा झटका लगा है. पार्टी उम्मीदवार अजय माकन को बीजेपी के समर्थन वाले निर्दलीय उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा के हाथों हार का सामना करना पड़ा है. अजय माकन (Ajay Maken) की हार में बड़ी भूमिका कांग्रेस के ही विधायक कुलदीप बिश्नोई (Kuldeep Bishnoi) ने निभाई. कुलदीप बिश्नोई की ओर से की गई क्रॉस वोटिंग की वजह से माकन को हार का मुंह देखना पड़ा. वहीं, चुनाव आयोग ने कांग्रेस का एक वोट रद्द कर दिया था. जानिए माकन की हार के कारण क्या रहे.

माकन को 29 वोट मिले, लेकिन…

इस चुनाव में वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय माकन को पर्याप्त वोट नहीं मिले. वहीं, पार्टी विधायक कुलदीप बिश्नोई ने ‘क्रॉस-वोटिंग’ की, जबकि एक अन्य विधायक के वोट को अमान्य घोषित कर दिया गया. चुनाव में कृष्ण लाल पंवार को 36 वोट मिले, जबकि निर्दलीय कार्तिकेय शर्मा के खाते में प्रथम वरीयता के 23 मत गए और 6.6 वोट बीजेपी से स्थानांतरित होकर आए, जिससे उनके मतों की कुल संख्या 29.6 हो गई. कांटे की टक्कर वाले इस मुकाबले में माकन को 29 वोट हासिल हुए, लेकिन दूसरी वरीयता का कोई वोट न होने के कारण वह हार गए.

कैसे लगता है वोटों का मूल्य?

दरअसल राज्यसभा में एक वोट की वैल्यू 100 अंक के बराबर होती है. हरियाणा में कुल 90 विधायकों में से 89 ने वोट दिए, जबकि निर्दलीय विधायक बलराज कुंडु मतदान से दूर रहे. और कांग्रेस का एक वोट रद्द हो गया. ऐसे में अब 88 सीटों के 8800 अंक हुए. तीन उम्मदवारों की वजह से 8800 अंकों को तीन से भाग किया जाएगा. ऐसे में एक उम्मीदवार को जीतने के लिए 2934 वोट चाहिए थे. लेकिन बीजेपी सदस्यों द्वारा दिए गए वोटों का मूल्य 3,600 था, जिससे पहली सीट पंवार के लिए सुरक्षित हो गई. वहीं, शर्मा ने 2,960 वोट मूल्य के साथ दूसरी सीट जीत ली, जिसमें दूसरी वरीयता के मतों के तौर पर बीजेपी उम्मीदवार से स्थानांतरित 660 वोट मूल्य शामिल है. कांग्रेस सदस्यों के वोटों का मूल्य 2,900 था. 40 विधायकों के साथ बीजेपी के पास जीत के लिए आवश्यक 31 प्रथम वरीयता मतों से नौ मत ज्यादा थे.

कांग्रेस विधायक कुलदीप बिश्नोई ने मीडिया कारोबारी शर्मा के लिए ‘क्रॉस वोटिंग’ की, जबकि एक अन्य विधायक के वोट को अमान्य घोषित कर दिया गया. कांग्रेस विधायक कुलदीप शर्मा, कार्तिकेय शर्मा के ससुर हैं. निर्दलीय उम्मीदवार शर्मा को बीजेपी और उसके सहयोगी दल जजपा का समर्थन हासिल था. ये चुनाव नतीजे कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के लिए भी झटका हैं, क्योंकि पार्टी ने हाल ही में कुमारी शैलजा को अपनी प्रदेश इकाई के अध्यक्ष पद से हटाकर हुड्डा के वफादार उदय भान को नियुक्त किया था. हरियाणा में कांग्रेस के 31 विधायक हैं.