September 22, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

Tesla इलेक्ट्रिक कार का भारत आना अटका!

लगता है कि एलन मस्क की कुंडली में टेस्ला (Tesla) कार के भारतीय बाजार में गृह प्रवेश का योग नहीं है। पिछले कई महीनों से इस कार की एंट्री को लेकर कभी हां कभी ना जैसी बातें सामने आ रही थीं। हालांकि, अब भारत में टेस्ला इलेक्ट्रिक कार (tesla electric cars) को इंतजार लंबा हो गया है। दरअसल, एलन मस्क (Elon Musk) ने इन गाड़ियों को इंडियन मार्केट में बेचने के प्लान को फिलहाल टाल दिया है। रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, Tesla Inc. ने इंडिया में अपनी कारों के शोरूम के लिए जगह तलाशने का काम बंद कर दिया है। वहीं, यहां काम कर रही अपनी टीम के कई लोगों को नई जिम्मेदारियां सौंप दी है। इस मामले से जुड़े तीन लोगों ने बताया कि कंपनी ने अपनी इंडिया की पूरी योजना को होल्ड पर दिया है।

टेस्ला और सरकार के बीच इम्पोर्ट ड्यूटी घटाने को लेकर लंबे समय से बातचीत अटकी हुई है। अब इस डेडलॉक को लगभग सालभर से ज्यादा समय बीत चुका है। एलन मस्क चाहते हैं कि भारत में टेस्ला की फैक्ट्री लगाने से पहले सरकार उन्हें बनी बनाई इलेक्ट्रिक कारों को इंडिया लाने पर आयात कर में छूट दे, ताकि वह इंडियन मार्केट में अपनी कारों की डिमांड और रिस्पांस टेस्ट कर सकें। हालांकि, सरकार ये साफ कर चुकी है कि अगर टेस्ला को इंडिया में कार बेचनी है तो उसे यहां फैक्टरी लगानी होगी। वो इसके लिए सरकार की PLI स्कीम का लाभ उठा सकती है। भारतीय बाजार में टेस्ला की उन इलेक्ट्रिक कारों को नहीं बेचा जाएगा जो चीन में तैयार की गई हैं।

रॉयटर्स के मुताबिक, टेस्ला ने कारों की इंडिया में लॉन्चिंग के लिए कंपनी ने 1 फरवरी की डेडलाइन तय की थी। इसी दिन भारत सरकार अपना सालाना बजट पेश करती है। कंपनी देखना चाहती थी कि क्या भारत सरकार बजट में टैक्स को लेकर कोई बदलाव करती है या नहीं, और उसकी लॉबिइंग काम आती है या नहीं। ऐसा नहीं होने पर कंपनी ने टेस्ला कार को भारत लाने के प्लान को होल्ड कर दिया। इस पूरे वाकये को लेकर एलन मस्क ने ‘भारत सरकार के साथ आ रही दिक्कतों’ वाला एक ट्वीट किया था। इसके बाद कई राज्य सरकारों ने उन्हें अपने यहां प्लांट लगाने का न्यौता दिया था। इसमें पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, पंजाब, महाराष्ट्र और तमिलनाडु शामिल हैं।