July 3, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

रूस ने यूक्रेन के न्यूक्लियर प्लांट पर किया हमला, खौफ में दुनिया

यूरोप खौफजदा है और हो भी क्‍यों न, उसपर कयामत का खतरा जो मंडरा रहा है। रूस ने यूक्रेन में जो आग लगा रखी है, उसकी एक चिंगारी गलत जगह पर पड़ी तो यूरोप क्‍या पूरी दुनिया के लिए आफत आ जाएगी। शुक्रवार को खबर आई है कि रूसी सेना ने जपोरिजिया न्‍यूक्लियर पावर प्‍लांट पर फायरिंग की है। यह यूरोप का सबसे बड़ा न्‍यूक्लियर प्‍लांट है, चेरनोबिल से 10 गुना बड़ा। यूक्रेन और यूरोप के लोग अभी 1986 का वह हादसा भूले नहीं होंगे। तीन दशक से ज्‍यादा का वक्‍त गुजर चुका है मगर चेरनोबिल आज भी खतरनाक है और दशकों तक रहेगा। बस कल्‍पना कीजिए कि अगर जपोरिजिया प्‍लांट से रेडिएशन हुआ तो… तबाही की ऐसी सुनामी आएगी जो दुनिया ने इससे पहले कभी देखी नहीं।
यूक्रेन ने शुक्रवार को कहा कि रूसी सेना ने जपोरिजिया पर हमला किया है। विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर विस्फोट हुआ तो यह चेरनोबिल आपदा की तुलना में ’10 गुना बड़ी’ आपदा होगी।
अपने ट्वीट में कुलेबा ने कहा, ‘रूसी सेना यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र जपोरिजिया एनपीपी पर हर तरफ से गोलीबारी कर रही है। आग पहले ही लग चुकी है। अगर इसमें धमाका हुआ, तो यह चेरनोबिल से 10 गुना बड़ा होगा! रूसियों को तुरंत आग रोकनी चाहिए, अग्निशामकों को अनुमति देनी चाहिए, एक सुरक्षा क्षेत्र स्थापित करना चाहिए।’
यूक्रेन में इस वक्‍त चार सक्रिय परमाणु संयंत्र हैं, जिनमें जपोरिजिया भी शामिल है। दावा है कि यह यूक्रेन की बिजली का लगभग 25 प्रतिशत हिस्सा बनाता है।
यूक्रेन के राष्‍ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने शुक्रवार सुबह एक अर्जेंट वीडियो मेसेज जारी किया। उन्‍होंने चेरनोबिल की याद दिलाते हुए चेतावनी दी कि उससे भी भयानक आपदा आ सकती है। जेलेंस्‍की ने कहा, ‘रूस के अलावा किसी और देश ने न्‍यूक्लियर पावर यूनिट्स पर हमला नहीं किया है। यह इतिहास में पहली बार हुआ है, मानव इतिहास में पहली बार। आतंकी देश ने अब न्‍यूक्लियर टेरर फैलाने का मन बना लिया है।’