August 19, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

902610296

बॉडी बनाने के चक्कर 5 दोस्तों ने एक ही सिरिंज से लिया स्टेरॉयड, 24 साल का एक युवक हुआ HIV से संक्रमित

फरीदाबाद: जल्द बॉडी बनाने के चक्कर में फरीदाबाद के पांच दोस्तों ने एक ही सिरिंज से स्टेरॉयड ले लिया। पता चला है कि इनमें से 24 साल के एक युवक को एचआईवी संक्रमण हो गया है। अब चार अन्य दोस्तों के सैंपल भी जांच के लिए भेजे गए हैं। रिपोर्ट का इंतजार है। फरीदाबाद में ऐसा मामला आने के बाद डॉक्टरों का कहना है कि मात्र पांच रुपये में आने वाली सिरिंज अलग-अलग खरीद ली जातीं तो संक्रमण नहीं होता। लोगों को सचेत रहने की जरूरत है। कभी भी इस्तेमाल की गई सिरिंज से इंजेक्शन न लगवाएं।फरीदाबाद में सामने आई घटना में पता चला कि पांचों दोस्त एक जिम में एक्सरसाइज करने जाते हैं। वहां इन्हें जल्द बॉडी बनाने की धुन सवार हुई। पांच दोस्तों ने एक ही सूई से स्टेरॉयड लिया। इनमें से एक युवक में एचआईवी की पुष्टि हुई हैं। स्टेरॉयड वैसे भी सेहत के लिए नुकसानदेह है। कुछ दिन पहले युवक का स्वास्थ्य खराब हुआ तो डॉक्टर को दिखाया गया। लक्षणों के आधार पर डॉक्टरों ने एचआईवी टेस्ट की सलाह दी। उसके बाद एक स्वास्थ्य केंद्र पर यह जांच कराई गई, जिसमें एचआईवी का पता चला।

समय पर पता चलने से इलाज में आसानी
स्वास्थ्य विभाग की काउंसलिंग में पता चला कि उसने दोस्तों के साथ एक ही सिरिंज से स्टेरॉयड लिया था। साथ ही असुरक्षित यौन संबंध से इनकार किया है। डॉक्टरों के अनुसार संक्रमित की पहचान समय से होने से उसके इलाज में कुछ सहूलियत होगी। स्टेरॉयड ओरल व इंजेक्शन दोनों माध्यमों से लिया जाता है, जो नुकसानदेह है। डॉक्टरों के अनुसार एचआईवी संक्रमित होने के चार मुख्य कारण हैं। यह असुरक्षित यौन संबंध, संक्रमित खून चढ़ने व संक्रमित मां से उसके बच्चे को हो सकता है। वहीं, संक्रमित व्यक्ति को लगी हुई सूई का इस्तेमाल करने से भी एचआईवी हो सकता है। डॉक्टरों के अनुसार, एचआईवी की जांच को लेकर लोगों में जागरूकता आई है और कुछ साल में जांच कराने वालों की संख्या बढ़ी है।
अब ज्यादा मरीजों की हो रही पहचान
जिले में एचआईवी संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है। जागरूकता के कारण जांच कराने वालों की संख्या भी बढ़ रही है। इससे संक्रमितों की संख्या में भी वृद्धि हो रही है। 2002 व 3 के दौरान फरीदाबाद में 10-10 एचआईवी संक्रमित मिले थे, जो 2021 तक लगभग 30 गुना बढ़ गई है। पिछले साल फरीदाबाद में 339 नए एचआईवी संक्रमित मिले थे। इनमें 248 से अधिक पुरुष शामिल थे। 10 साल के आंकड़ों को देखें तो 2013 में 174, 2014 में 231, 2015 में 161, 2016 में 275, 2017 में 259, 2018 में 370, 2019 में 344, 2020 में 215, 2021 में 339 व इस साल अभी तक 180 एचआईवी मरीज फरीदाबाद में मिले हैं।