July 1, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

शरीयत में दखल नहीं करेंगे बर्दाश्त- मौलाना मदनी

देवबंध में दूसरे दिन भी ज़मीयत उलमा-ए-हिंद का सम्मलेन चला. इस दौरान जमीयत की तरफ से कई तरह के प्रस्तावों पर मुहर लगाई गई, जिनमें ज्ञानवापी मस्जिद और मथुरा शाही ईदगाह जैसे मामले भी शामिल हैं. सम्मेलन के दूसरे दिन भी जमीयत के अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी ने कहा कि, हर चीज पर समझौता हो सकता है लेकिन विचारधारा पर समझौता नहीं हो सकता है. मदनी ने कहा कि शरीयत में दखल को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

हमें पहले मुल्क बचाना है – मदनी
मौलाना महमूद मदनी ने कहा कि, आज हमारे वजूद का सवाल है. मुसलमानों को पहले से ही जुल्म सहने की आदत है. हमें पहले मुल्क बचाना है. इसीलिए हम मुल्क की बात पहले कर रहे हैं, लेकिन इससे भी बहुत सारे लोगों के पेट में दर्द हो रहा है. अगर वो राष्ट्रवाद की बात करते हैं तो वो सही है, लेकिन अगर हम ये बात करेंगे तो उसे दिखावा कहा जाता है. अगर इस मुल्क की हिफाजत के लिए हमारी जान जाएगी तो हमारे लिए सौभाग्य की बात होगी.

‘आप करते हैं डराने का काम’
मदनी ने अपने संबोधन ने कहा कि, हमारे लहजे में इन्हें नफरत कहां से नजर आ रही है. हम डराते नहीं हैं आप डराने का काम करते हैं. हम गैर नहीं हैं, हम इस मुल्क के हैं, ये हमारा मुल्क है. हम अपने मुल्क के लिए अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे. हमारी तहजीब, खाने-पीने के तरीके अलग हैं… अगर तुमको हमारा मजहब बर्दाश्त नहीं है तो तुम कहीं और चले जाओ. वो जरा-जरा सी बात पर कहते हैं कि पाकिस्तान चले जाओ. हमें तो मौका मिला था, लेकिन हमने उसे रिजेक्ट कर दिया.