June 24, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

रूस पर लगाए जा रहे प्रतिबंध से भारत को भी हो रहा नुकसान

रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग के बीच कई यूरोपीय देशों ने रूस पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए हैं. उस पर आर्थिक लगाम भी लगाए गए हैं. रूस पर लगाए गए प्रतिबंध का असर भारत के निर्यातकों पर भी पड़ रहा है. जानकारी के मुताबिक भारत के निर्यातकों का रूस में लगभग 400-500 मिलियन डॉलर का भुगतान लंबित है और वे पश्चिमी देशों द्वारा रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों के बाद अपनी बकाया राशि प्राप्त करने के लिए एक तंत्र तैयार करने के लिए भारत सरकार के साथ चर्चा में लगे हुए हैं. इस बीच 10 हजार डालर से ज्यादा विदेशी मुद्रा के साथ रूस छोड़ने पर पाबंदी लगा दी गई है. कहा जा रहा है कि भारत के फार्मा और कृषि क्षेत्र को स्विफ्ट प्रतिबंधों से बाहर रखने के साथ ही, इनमें से भारत के निर्यातक अपनी बकाया राशि के भुगतान को प्राप्त करने के बारे में आशावादी हैं, लेकिन अन्य सेक्टर के निर्यातक अभी तक प्रतिबंधों के आसपास एक रास्ता नहीं निकाल पाए हैं. उनके लिए अपने पैसे को पाने में मुश्किलें आ सकती हैं. इसके लिए सरकार ने परामर्श के लिए निर्यातकों के साथ बातचीत कर रहे हैं. रूस में चल रहे हालात और वर्तमान शासन में वहां हो रहे कुछ बदलावों को और व्यवसायों को लेकर रूसी खरीदारों से अपना बकाया प्राप्त करने के लिए आवश्यक कदम उठाने की कोशिश में है.जिस तरह से Maersk के रूप में शिपिंग लाइनों के साथ रूस से डिलीवरी को निलंबित कर दिया गया है, इससे ताजा खेप भेजने के लिए निर्यातकों को समस्या हो रही है. बता दें कि रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध शुरू होने के तुरंत बाद शिपिंग लाइनों ने आदेश स्वीकार करना बंद कर दिया था. लेकिन निर्यातकों की वर्तमान चिंता उन शिपमेंट के बारे में अधिक है जो पहले ही भेजे जा चुके हैं, जिसके लिए कुछ विकल्पों पर चर्चा की जा रही है.
रूस में आयातक अपनी मुद्रा रूबल में लेनदेन कर सकते हैं, हालांकि इसे प्राप्त करने में समस्याएं आ रही हैं. इसके अलावा, निर्यातकों को मानदंडों में छूट की जरूरत नहीं होगी और उन्हें निर्यात लाभ उपलब्ध नहीं हो सकेंगे, जिससे भेजी गई खेप बेकार हो जाएगी और उसके पैसे मिलेंगे या नहीं कहा नहीं जा सकता है. इसके लिए अन्य विकल्प तलाशे जा रहे हैं. पहले किए गए भुगतान के लिए भारत में निर्यातकों ने कुछ छूट की मांग की है.