July 3, 2022

Jagriti TV

न्यूज एवं एंटरटेनमेंट चैनल

चीन के ऑर्बिटल लॉन्च व्हीकल का हिस्सा हैं गुजरात में गिरे मलबे? 

12 मई को गुजरात में तीन जगहों- भलेज, खंभोलज और रामपुरा में संदिग्ध मलबे के टुकड़े ‘अंतरिक्ष से गिरे’ थे। इसे लेकर लोग अभी भी भ्रमित और जिज्ञासु बने हुए हैं। फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी की एक टीम इसकी जांच में जुटी है। चलिए, हम इस बात पर नजर डालते हैं कि अब तक क्या पता चला है, यह उल्कापिंडों के मलबे से कैसे अलग है।

हम मलबे के बारे में क्या जानते हैं?
स्थानीय पुलिस के अनुसार, 12 मई को शाम लगभग 4.45 बजे पहली बड़ी काली धातु की गेंद आणंद के भलेज गांव में “आसमान से” गिरी, जिसका वजन लगभग पांच किलोग्राम था। इसके बाद दो अन्य गांवों- खंभोलज और रामपुरा में दो समान टुकड़े गिरे। तीन गांव 15 किलोमीटर के दायरे में स्थित हैं, जिनमें से एक टुकड़ा चिमनभाई के खेत में गिर रहा है। सौभाग्य से कोई घायल नहीं हुआ।

14 मई को भी इसी तरह के गोले के आकार का मलबा भालेज से करीब 8 किलोमीटर दूर आणंद के चकलासी गांव में मिला था। हालांकि भारतीय अधिकारियों ने यह पता लगाने के लिए कोई बयान जारी नहीं किया है कि यह क्या हो सकता है। हार्वर्ड स्मिथसोनियन सेंटर फॉर एस्ट्रोफिजिक्स के खगोलशास्त्री जोनाथन मैकडॉवेल ने ट्वीट किया कि यह चांग झेंग 3 बी सीरियल Y86 के री-एंट्री का मलबा हो सकता है जो कि चीन का ऑर्बिटल लॉन्च व्हीकल है। मैकडॉवेल ने बताया कि यह अनुमान अमेरिकी अंतरिक्ष बल के आंकड़ों पर आधारित है जो इसकी निगरानी करता है। इसके मुताबिक, यह फैक्ट है कि उस दिन (12 मई) एकमात्र री-एंट्री भारत के पास से कहीं की गई। मैकडॉवेल कहते हैं कि अनुमानित पथ गांवों से कुछ सौ किमी उत्तर में था, लेकिन यह इस विशेष वस्तु के लिए अनिश्चितताओं के भीतर है क्योंकि इसकी कक्षा सामान्य से अधिक अनिश्चित थी। उन्होंने कहा, “समस्या यह है कि वायुमंडलीय खिंचाव के कारण कक्षा तेजी से बदल रही थी। तो, हमारे पास आखिरी स्पेस फोर्स ऑर्बिट कई घंटे पुरानी थी। उस कक्षा के आगे का प्रक्षेपण अंतरिक्ष के माध्यम से अपने पथ के संदर्भ में विश्वसनीय है। लेकिन अपने ट्रैक के साथ रॉकेट की स्थिति अनिश्चित है।”

गुजरात के आणंद जिला कलेक्टर एम वाई दक्सिनी ने कहा कि फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला टीम नमूनों की जांच कर रही है और यह जिला कलेक्ट्रेट भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला, अहमदाबाद व भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र (एसएसी) के संपर्क में है। पता लगाया जा रहा है कि यह मलबा किसी उपग्रह या रॉकेट का है।